स्नातं तेन सर्व तीर्थम् दातं तेन सर्व दानम् कृतो तेन सर्व यज्ञो.....उसने सर्व तीर्थों में स्नान कर लिया, उसने सर्व दान दे दिये, उसने सब यज्ञ कर लिये जिसने एक क्षण भी अपने मन को आत्म-विचार में, ब्रह्मविचार में स्थिर किया।
Do Japa of any God's Name, 1st 4 minutes in lips, then 2 minutes in throat, then 2 minutes in heart, then do nothing for 2 minutes, be silent. If done 3-4 times daily this 10 minutes course, one will fly in spiritual journey. -Pujya Bapuji

Ashram Livestream TV

Ashram Internet TV

Ashram Internet TV

साधना के छः विघ्न

Rajesh Kumawat | 8:10 AM | | Best Blogger Tips
साधना के छः विघ्न



1.   निद्रा, 2. तंद्रा, 3. आलस्य, 4. मनोराज, 5. लय और 6. रसास्वाद

ये छ: साधना के बड़े विध्न हैं । अगर ये विध्न न आयें तो हर मनुष्य भगवान के दर्शन कर ले ।

“जब हम माला लेकर जप करने बैठते हैं, तब मन कहीं से कहीं भागता है । फिर ‘मन नहीं लग रहा…’ ऐसा कहकर माला रख देते हैं । घर में भजन करने बैठते हैं तो मंदिर याद आता है और मंदिर में जाते हैं तो घर याद आता है । काम करते हैं तो माला याद आती है और माला करने बैठते हैं तब कोई न कोई काम याद आता है
” ऐसा क्यों होता है? यह एक व्यक्ति का नहीं, सबका प्रश्न है और यही मनोराज है ।


कभी-कभी प्रकृति में मन का लय हो जाता है । आत्मा के दर्शन नहीं होते किंतु मन का लय हो जाता है और लगता है कि ध्यान किया । ध्यान में से उठते है तो जम्हाई आने लगती है । यह ध्यान नहीं, लय हुआ । वास्तविक ध्यान में से उठते हैं तो ताजगी, प्रसन्नता और दिव्य विचार आते हैं किंतु लय में ऐसा नहीं होता ।

कभी-कभी साधक को रसास्वाद परेशान करता है । साधना करते-करते थोड़ा बहुत आनंद आने लगता है तो मन उसी आनंद का आस्वाद लेने लग जाता है और अपना मुख्य लक्ष्य भूल जाता है ।


कभी साधना करने बैठते हैं तो नींद आने लगती है और जब सोने की कोशिश करते है तो नींद नहीं आती । यह भी साधना का एक विघ्न है ।


तंद्रा भी एक विघ्न है । नींद तो नहीं आती किंतु नींद जैसा लगता है । यह सूक्ष्म निद्रा अर्थात तंद्रा है ।


साधना करने में आलस्य आता है । “अभी नहीं, बाद में करेंगे…” ऐसा सोचते हैं तो यह भी एक विघ्न है ।


इन विघ्नों को जीतने के उपाय भी हैं ।


मनोराज एवं लय को जीतना हो तो दीर्घ स्वर से ॐ का जप करना चाहिए
स्थूल निद्रा को जीतने के लिए अल्पाहार और आसन करने चाहिए
सूक्ष्म निद्रा यानी तंद्रा को जीतने के लिए प्राणायाम करने चाहिए
आलस्य को जीतना हो तो निष्काम कर्म करने चाहिए । सेवा से आलस्य दूर होगा एवं धीरे-धीरे साधना में भी मन लगने लगेगा ।


श्री रामानुजाचार्य ने कुछ उपाय बताये हैं, जिनका आश्रय लेने से साधक सिद्ध बन सकता है। वे उपाय हैं :


विवेक: आत्मा अविनाशी है, जगत विनाशी है। देह हाड़ मांस का पिंजर है, आत्मा अमर है । शरीर के साथ आत्मा का कतई सम्बन्ध नहीं है और वह आत्मा ही परमात्मा है । इस प्रकार का तीव्र विवेक रखें ।


विमुखता: जिन वस्तुओं, व्यसनों को ईश्वर प्राप्ति के लिए त्याग दिया, फिर उनकी ओर न देखें, उनसे विमुख हो जायें । घर का त्याग कर दिया तो फिर उस ओर मुड़-मुड़कर न देखें । व्यसन छोड़ दिये तो फिर दुबारा न करें । जैसे कोई वमन करता है तो फिर उसे चाटने नहीं जाता, ऐसे ही ईश्वर प्राप्ति में विघ्न डालनेवाले जो कर्म हैं उन्हें एक बार छोड़ दिया तो फिर दुबारा न करें

अभ्यास: भगवान के नाम जप का, भगवान के ध्यान का, सत्संग में जो ज्ञान सुना है उसका नित्य, निरंतर अभ्यास करें ।


कल्याण: जो अपना कल्याण चाहता है वह औरों का कल्याण करे, निष्काम भाव से औरों की सेवा करे ।


भगवत्प्राप्तिजन्य क्रिया: जो कार्य तन से करें उनमें भी भगवत्प्राप्ति का भाव हो, जो विचार मन से करें उनमें भी भगवत्प्राप्ति का भाव हो और जो निश्चय बुद्धि से करें उन्हें भी भगवत्प्राप्ति के लिए करें ।


अनवसाद: कोई भी दु:खद घटना घट जाय तो उसे बार-बार याद करके दु:खी न हों ।


अनुहर्षात्: किसी भी सुखद घटना में हर्ष से फुलें नहीं । जो साधक इन सात उपायों को अपनाता है वह सिद्धि प्राप्त कर लेता है । (स्रोत: जीवनोपयोगी कुंजियाँ)


saadhanaa ke chhh vighn


1. nidraa, 2. tndraa, 3. aalasy, 4. manoraaj, 5. lay aur 6. rasaasvaad

ye chh: saadhanaa ke bade vidhn hain . agar ye vidhn n aayen to har manushy bhagavaan ke darshan kar le .

“jab ham maalaa lekar jap karane baithate hain, tab man kaheen se kaheen bhaagataa hai . fir ‘man naheen lag rahaa…’ aisaa kahakar maalaa rakh dete hain . ghar men bhajan karane baithate hain to mndir yaad aataa hai aur mndir men jaate hain to ghar yaad aataa hai . kaam karate hain to maalaa yaad aatee hai aur maalaa karane baithate hain tab koee n koee kaam yaad aataa hai

” aisaa kyon hotaa hai? yah ek vyakti kaa naheen, sabakaa prashn hai aur yahee manoraaj hai .

kabhee-kabhee prakriti men man kaa lay ho jaataa hai . aatmaa ke darshan naheen hote kintu man kaa lay ho jaataa hai aur lagataa hai ki dhyaan kiyaa . dhyaan men se uthate hai to jamhaaee aane lagatee hai . yah dhyaan naheen, lay huaa . vaastavik dhyaan men se uthate hain to taajagee, prasannataa aur divy vichaar aate hain kintu lay men aisaa naheen hotaa .

kabhee-kabhee saadhak ko rasaasvaad pareshaan karataa hai . saadhanaa karate-karate thodaa bahut aannd aane lagataa hai to man usee aannd kaa aasvaad lene lag jaataa hai aur apanaa mukhy lakshy bhool jaataa hai .

kabhee saadhanaa karane baithate hain to neend aane lagatee hai aur jab sone kee koshish karate hai to neend naheen aatee . yah bhee saadhanaa kaa ek vighn hai .

tndraa bhee ek vighn hai . neend to naheen aatee kintu neend jaisaa lagataa hai . yah sookshm nidraa arthaat tndraa hai .

saadhanaa karane men aalasy aataa hai . “abhee naheen, baad men karenge…” aisaa sochate hain to yah bhee ek vighn hai .

in vighnon ko jeetane ke upaay bhee hain .

manoraaj evn lay ko jeetanaa ho to deergh svar se om kaa jap karanaa chaahie .


sthool nidraa ko jeetane ke lie alpaahaar aur aasan karane chaahie .


sookshm nidraa yaanee tndraa ko jeetane ke lie praanaayaam karane chaahie .


aalasy ko jeetanaa ho to nishkaam karm karane chaahie . sevaa se aalasy door hogaa evn dheere-dheere saadhanaa men bhee man lagane lagegaa .

shree raamaanujaachaary ne kuchh upaay bataaye hain, jinakaa aashray lene se saadhak siddh ban sakataa hai. ve upaay hain :

vivek: aatmaa avinaashee hai, jagat vinaashee hai. deh haad maans kaa pinjar hai, aatmaa amar hai . shareer ke saath aatmaa kaa kataee sambandh naheen hai aur vah aatmaa hee paramaatmaa hai . is prakaar kaa teevr vivek rakhen .

vimukhataa: jin vastuon, vyasanon ko eeshvar praapti ke lie tyaag diyaa, fir unakee or n dekhen, unase vimukh ho jaayen . ghar kaa tyaag kar diyaa to fir us or mud-mudakar n dekhen . vyasan chhod diye to fir dubaaraa n karen . jaise koee vaman karataa hai to fir use chaatane naheen jaataa, aise hee eeshvar praapti men vighn daalanevaale jo karm hain unhen ek baar chhod diyaa to fir dubaaraa n karen

abhyaas: bhagavaan ke naam jap kaa, bhagavaan ke dhyaan kaa, satsng men jo jnyaan sunaa hai usakaa nity, nirntar abhyaas karen .

kalyaan: jo apanaa kalyaan chaahataa hai vah auron kaa kalyaan kare, nishkaam bhaav se auron kee sevaa kare .

bhagavatpraaptijany kriyaa: jo kaary tan se karen unamen bhee bhagavatpraapti kaa bhaav ho, jo vichaar man se karen unamen bhee bhagavatpraapti kaa bhaav ho aur jo nishchay buddhi se karen unhen bhee bhagavatpraapti ke lie karen .

anavasaad: koee bhee du:khad ghatanaa ghat jaay to use baar-baar yaad karake du:khee n hon .

anuharshaat: kisee bhee sukhad ghatanaa men harsh se fulen naheen . jo saadhak in saat upaayon ko apanaataa hai vah siddhi praapt kar letaa hai . (srot: jeevanopayogee kunjiyaan)